Image

 

उड़ते परिंदों की उड़ान देखो 
पानी को छु के निकलती है 
जैसे कोई स्पर्श हो मिठास भरा 

हरित खेतों में  पानी की बूँदें 
उछलती है कूदती हूँ 
हर रंग को और निखारती हैं 

सूरज की किरनें सुनेहरा करती हैं 

हर रंग को, 
उभरता हर कतरा है 

नीले अम्बर मिलता दूर है कही शितिज़ पर 
तलाश है  उसे भी  अपनी ज़मीन की 

समीर में तमन्ना है न  जाने किस मंज़र की 
गुज़रते हुए ऐसा एहसास महसूस हो 
जो आह भरने पर मजबूर कर दे 

Advertisements

7 thoughts on “

      1. suyash220

        Both in 3 hours, now that’s impressive..hope you take the train again when coming back – for they were a pleasure to read 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s